suvieducation

एक घमंडी हिरन की मनोहर कहानी

एक बहुत घना जंगल था जंगल में बहुत सारे जानवर एक साथ रहते थे | जंगल में एक हिरन रहता था | हिरन बहुत घमंडी था और उसे अपनी बुद्धि पर बहुत ही घमंड था | हिरन बहुत आराम से जंगल में रहता था | एक दिन की बात हैं हिरन भोजन की तलाश में जंगल में घूम रहा था | तभी उसकी नजर तालाब के किनारे पर गई उसने देखा तालाब में एक चींटी डूब रही हैं | चींटी ने हिरन को देखा तो उसने हिरन को बोला हिरन भाई मुझे बचा लो मैं डूब रही हूँ | ये देख हिरन को दया आ गई उसने चींटी को बचा लिया |

चींटी ने हिरन को बोला हिरन भाई आज तुमने मुझे बचा लिया कल को तुम कोई मुसीबत में आओगे तो हम तुम्हारा साथ देंगे | ये सुनके हिरन हंसने लगा और चींटी से बोला की तुम क्या मेरी मदद करोगे और वहां से चला गया | कुछ दिन बाद हिरन जंगल में खाने की तलाश में घूम रहा था की तभी शेर की नजर हिरन पर परी उसने सोचा की क्यो न आज हिरन का शिकार किया जाए | शेर ने हिरन को पकड़ लिया और खाने लगा | हिरन जोर – जोर से चिल्लाने लगा मुझे कोई बचा लो ये सुन के वहां पर वो चींटी भी थी जिसे हिरन ने बचाया था | चींटी ने जब हिरन की आवाज सुनी | ये सुन के चींटी आयी और शेर को बोलने लगा की तुम हिरन को छोड़ दो ये सुन के शेर हंसने लगा और बोला जाओ तुम यहाँ से | आज मैं तो इस हिरन को खाऊंगा क्योकि मुझे बहुत भूख लगी हैं |

चींटी वहां से चला गया और अपने सभी दोस्तों के साथ आ गया और शेर के कान के अंदर चला गया और काटने लगा | इससे शेर परेशान हो गया उसने हिरन को छोड़ दिया | हिरन आजाद हो गया और वो भाग गया | शेर भी परेशान हो गया वो भी अपने मांद के तरफ भाग गया | चींटी अपने सभी साथियो के साथ वापस अपने घर आ गया | हिरन वापस चींटी के पास आया और चींटी से माफ़ी मांगने लगा और बोला मित्र मुझे माफ़ कर दो | आज से हमलोग दोस्त हैं |

A beautiful story of a proud deer

There was a very dense forest, many animals lived together in the forest. A deer lived in the forest. The deer was very arrogant and was very proud of his intelligence. The deer lived very comfortably in the forest. One day, the deer was roaming in the forest in search of food. Then his eyes went to the edge of the pond, he saw an ant drowning in the pond. When the ant saw the deer, it said to the deer, brother deer, save me, I am drowning. Seeing this, the deer felt pity and saved the ant. The ant said to the deer, brother deer, today you saved me, tomorrow if you come in any trouble, we will support you. Hearing this, the deer started laughing and asked the ant, will you help me and went away from there.

A few days later, the deer was roaming in the forest in search of food, when the lion’s eyes fell on the deer, he thought why not hunt the deer today. The lion caught the deer and started eating it. The deer started shouting loudly, someone save me, hearing this, the ant which the deer had saved was also there. When the ant heard the voice of the deer. Hearing this the ant came and started telling the lion to release the deer. Hearing this the lion started laughing and said go away from here. Today I will eat this deer because I am very hungry.

The ant went from there and came back with all his friends and went inside the lion’s ear and started biting. This irritated the lion and he released the deer. The deer got free and ran away. The lion also got irritated and he also ran towards his den. The ant came back to his home with all his friends. The deer came back to the ant and started apologizing to him and said friend please forgive me. From today we are friends.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *