suvieducation

कौआ और कबूतर की दोस्ती की मनोहर कहानी

एक जंगल में एक कौआ और एक कबूतर रहते थे | कबूतर कौआ का आपस में नहीं बनती था | जब भी कबूतर कौआ को देखता कबूतर उसे बहुत चिढ़ाता | कौआ को बहुत दुःख होता था | जंगल के और भी जानवर भी कौआ का मजाक उड़ाता | रोज कबूतर अपने बच्चो के लिए खाना लाने के लिए जंगल में जाता |

एक दिन जंगल में जोर से आंधी आयी | कबूतर बहुत देर तक नहीं आया ईससे कबूतर के बच्चे भूख से तरप रहे थे | लेकिन कौआ को ये देखा नहीं गया कौआ ने कबूतर के बच्चो के लिए खाना लाया और बच्चो को खाना खिलाया | ये देख के जंगल के और जानवर ने कौआ को बहुत मना किया तुम कबूतर के बच्चो को मत खाना खिलाओ | वो तुम्हारा मजाक उड़ाता रहता हैं | कौआ ने किसी की बात नहीं सुनी |

कौआ ने कबूतर के बच्चो को खाना खिलाया | बच्चे बहुत खुश थे और खेल रहे थे | बहुत समय के बाद कबूतर आया उसने देखा कौआ के बच्चो के साथ उसके बच्चे खेल रहे थे पहले तो कबूतर को बहुत गुस्सा आया | जब बाद में उसे पता लगा की कौआ ने उसके बच्चो का कितना ख्याल रखा तो उसे बहुत अफोसस हुआ और कौआ के पास जा के उसने कौआ से माफ़ी मांगी | कबूतर ने कौआ से बोला मित्र मुझे माफ़ कर दो | हमसभी लोग आज से दोस्त हैं फिर वो आपस में मिलजुल कर रहने लगे |

A beautiful story of friendship between a crow and a pigeon

A crow and a pigeon lived in a forest. Pigeon and crow did not get along with each other. Whenever the pigeon saw the crow, the pigeon used to tease him a lot. The crow was very sad. Other animals of the forest also make fun of the crow. Every day the pigeon goes to the forest to get food for its children.

One day there was a strong storm in the forest. The pigeon did not come for a long time, due to which the children of the pigeon were starving. But the crow did not see this. The crow brought food for the pigeons and fed them. Seeing this, another animal of the forest told the crow not to feed the pigeons. He keeps making fun of you. The crow did not listen to anyone.

The crow fed the children of the pigeon. The children were very happy and playing. After a long time the pigeon came, he saw that his children were playing with the crow’s children, at first the pigeon got very angry. When later he came to know that how much the crow took care of his children, he felt very sorry and went to the crow and apologized to the crow. The pigeon said to the crow, forgive me friend. We all are friends from today, then they started living together.

One thought on “कौआ और कबूतर की दोस्ती की मनोहर कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *