suvieducation

घमंडी बन्दर की मजेदार मनोहर कहानी

बहुत समय पहले की बात हैं जंगल में सभी जानवर बड़े आराम से रह रहे थे | जंगल में एक घमंडी बन्दर रहता था वो सभी जानवरो को बहुत परेशान करता था | सभी जानवर बन्दर से परेशान रहते थे | बन्दर किसी की बात नहीं सुनता था और अपनी मनमानी करता था | जंगल में एक चूहा रहता था बन्दर चूहा को बहुत परेशान करता था | चूहा बन्दर से बहुत परेशान रहता था |

एक दिन की बात हैं एक शिकारी जंगल में आया | शिकारी जानवर को फ़साने के लिए एक जाल लगाया | जाल लगा के शिकारी वहां से चला गया | शिकारी के जाल को देख के कोई भी जानवर जाल के पास नहीं जा रहा था | लेकिन बन्दर के मन में आया की क्यो न जाल को देखा जाए | बन्दर जाल के पास जाने लगा तो जानवरो ने उसे रोका मत जाओ नहीं तो तुम फस जाओगे लेकिन बन्दर किसी बात को नहीं सुना और जाल की तरफ चला गया | जैसे ही वो जाल के पास गया वो जाल में फस गया | वो जैसे ही निकलना चाहा वो निकल नहीं पा रहा था | अब बन्दर को बहुत अफ़सोस हो रहा था की वो क्यो जाल के पास आया |

बन्दर जोर जोर से चिल्लाणने लगा मुझे बचाओ लेकिन कोई भी जानवर उसके पास नहीं जा रहा था | बन्दर का रो रो के बुरा हाल हो गया था वो गिडगिराने लगा मुझे बचाओ | सभी जानवर सोच रहा था बन्दर को नहीं बचाएंगे तो उसे शिकारी पकड़ के जायेगा और हमलोगो को बन्दर से छुटकारा मिल जायेगा | लेकिन ये सब चीज चूहा भी देख रहा था उसने बन्दर से बोला अगर तुम किसी को नहीं परेशान करोगे तो मैं तुम्हे इससे आजाद कर दूंगा | बन्दर ने चूहा के सामने गिरगिराते हुए बोला चूहा भाई मुझे बचा लो हम वादा करते हैं की हम किसी को परेशान नहीं करेंगे | फिर चूहा ने जाल को काट दिया बन्दर आजाद हो गया | बन्दर को अपने किये पर बहुत पछतावा हो रहा था | उस दिन के बाद से बन्दर ने चूहा को परेशान करना छोर दिया | बन्दर और चूहा दोनों दोस्त बन गए थे |

The funny and beautiful story of the arrogant monkey

It was a long time ago that all the animals were living very comfortably in the forest. There lived an arrogant monkey in the forest. He used to trouble all the animals a lot. All the animals were troubled by the monkeys. The monkey did not listen to anyone and did his own thing. There lived a rat in the forest. The monkey used to harass the rat a lot. The rat was very troubled by the monkey.

Once upon a time a hunter came into the forest. A net was set to trap the predatory animal. The hunter set the net and went away from there. Seeing the hunter’s net, no animal was going near the net. But the monkey thought why not look at the net. When the monkey started going towards the net, the animals stopped him and told him not to go otherwise you will get trapped, but the monkey did not listen to anything and went towards the net. As soon as he went near the net, he got trapped in the net. As soon as he tried to leave, he was unable to leave. Now the monkey was feeling very sorry as to why he came near the net.

The monkey started shouting loudly to save me but no animal was going near him. The monkey was so upset that he started pleading to save me. All the animals were thinking that if we don’t save the monkey, the hunter will catch him and we will get rid of the monkey. But the mouse was also watching all this and he said to the monkey that if you do not trouble anyone then I will free you from this. The monkey fell in front of the rat and said, Brother rat, save me, we promise that we will not trouble anyone. Then the rat cut the net and the monkey was freed. The monkey was feeling very remorseful for his actions. From that day onwards the monkey stopped harassing the rat. Monkey and rat had become friends.

3 thoughts on “घमंडी बन्दर की मजेदार मनोहर कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *