suvieducation

चिड़िया और हाथी की दोस्ती की मनोहर कहानी

एक जंगल था जंगल में एक तालाब था तालाब के पास एक पेड़ था | पेड़ के ऊपर एक में एक चिड़िया का घोसला था | चिड़िया और उसका परिवार बहुत आराम से पेड़ पर अपने घोसला में रहता था | एक दिन की बात हैं जंगल में जोर की आंधी आ गई | आंधी के वजह से चिड़िया के घोसले से उसका बच्चा नदी में गिर गया | ये देख के चिड़िया बहुत रोने लगी और जोर – जोर से चिल्लाने लगी मेरे बच्चे को को कोई बचा लो |

उसी जंगल में एक हाथी रहता था हाथी ने जब ये सुना तो वो दौर के आया और चिड़िया से पूछने लगा की बहन क्या हो गया | चिड़िया ने बताया की मेरा बच्चा नदी में गिर गया है उसे बचा लो हाथी भाई | मैं तुम्हारा एहसान जिंदगी भर नहीं भूलूंगी | हाथी ने तुरंत अपने सूंड से चिड़िया के बच्चे को बचा लिया | चिड़िया बहुत खुश हो गई और हाथी को बहुत धन्यवाद दिया | अब चिड़िया जंगल में उर के हाथी को फल के पेड़ के बारे में बताती रहती थी और हाथी मजे से पेड़ से फल खता था | अब चिड़िया और हाथी दोनों पक्के दोस्त हो गए थे |

Beautiful story of friendship between bird and elephant

There was a forest. There was a pond in the forest. There was a tree near the pond. There was a bird’s nest on one of the trees. The bird and its family lived very comfortably in their nest on the tree. One day there was a strong storm in the forest. Due to the storm, the bird’s baby fell from the nest into the river. Seeing this, the bird started crying a lot and started shouting loudly, “Someone please save my child”.

There used to be an elephant in the same forest. When the elephant heard this, he came to the bird and asked what happened to the bird. The bird told that my child has fallen into the river, save him brother elephant. I will not forget your favor throughout my life. The elephant immediately saved the baby bird with its trunk. The bird became very happy and thanked the elephant a lot. Now the bird kept telling the elephant about the fruit tree in the forest and the elephant used to eat the fruit from the tree with pleasure. Now both the bird and the elephant had become fast friends.

One thought on “चिड़िया और हाथी की दोस्ती की मनोहर कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *