suvieducation

बनावट नहीं छुपता हैं हिंदी मनोहर कहानी


एक जंगल था | जंगल में बहुत सारे जानवर एक साथ रहते थे | उसी जंगल में एक गधा भी रहता था | गधे को जंगल के सभी जानवर हमेशा चिढ़ाते रहते था | गधा को बहुत बुरा लगता था वो हमेशा सोचता रहता था की काश वो भी शेर की तरह होता | सभी जानवर उससे डरते और कोई भी जानवर उसको चिढ़ाता नहीं | एक दिन की बात हैं गधा यही सोचते हुए जंगल में घूम रहा था की तभी उसकी नजर शेर की खाल पर गई |
शेर की खाल को देखकर गधे के दिमाग में एक तरकीब आयी उसने सोचा की अगर वो शेर की खाल पहन लेगा तो वो शेर की तरह दिखने लगेगा | सभी जानवर उससे डरेंगे | बस फिर क्या था गधे ने शेर की खाल पहन लिया और जंगल में घूमने लगा | जो भी जानवर उसे देखता था वो डर के भाग रहा था | कोई भी जानवर अब उसको चिढ़ा नहीं रहा था | ये सब देखकर के गधा मन ही मन बहुत खुश हो रहा था | अब गधा मजे से जंगल में शान से घूमता था | ये बात जंगल के शेर को पता चला शेर ने सोचा की ये नया शेर कौन आ गया हैं जंगल में |
जंगल के सभी शेर एक साथ गधे को ढूंढने लगे | उसे वो गधा मिल गया जो शेर की खाल पहने हुए था | शेर ने गधे को चारो तरफ से घेर लिया और शेर ने उससे पूछने लगे की तुम कौन हो कहाँ से आये हो | अब गधा कुछ नहीं बोल रहा था ये देख के सभी शेरो ने गधा पर हमला कर दिया ये देख के गधा डर गया | अब गधा ने सोच अगर वो ये शेर की खाल नहीं उतरेगा तो ये शेर लोग उसे मार देगा | गधे ने शेर की खाल उतार दिया ये देख के जंगल के शेर के होश उर गए | गधा शेर के पैरो में गिर गया और गिडगिराने लगा और शेर से माफ़ी मांगने लगा और बोलने लगा शेर भाई मुझे माफ़ कर दो मुझसे गलती हो गई | शेर ने गधे को माफ़ कर दिया | शेर ने गधे से बोला आगे से ये गलती मत करना | गधे को अपने गलती का एहसास हो गया था |

Textures Don’t Hide Moral Story

There was a forest. Many animals lived together in the forest. A donkey also lived in the same forest. All the animals of the forest always kept teasing the donkey. The donkey felt very bad and always wished he could be like the lion. All animals are afraid of him and no animal teases him. One day, the donkey was roaming in the forest thinking this when his eyes fell on the lion’s skin.

Seeing the lion’s skin, an idea came to the donkey’s mind. He thought that if he wears the lion’s skin, he will start looking like a lion. All the animals will be afraid of him. Then the donkey wore the lion’s skin and started roaming in the forest. Every animal that saw him was running away in fear. No animal was teasing him anymore. Seeing all this, the donkey was feeling very happy in his heart. Now the donkey roamed happily in the forest with pride. The lion of the jungle came to know about this. The lion wondered who is this new lion who has come to the jungle.

All the lions of the forest together started searching for the donkey. He found the donkey which was wearing the lion’s skin. The lion surrounded the donkey from all sides and the lion started asking him who are you and where have you come from. Now seeing that the donkey was not saying anything, all the lions attacked the donkey.

Seeing this, the donkey got scared. Now the donkey thought that if he does not shed the lion’s skin, the lion will kill him. The donkey took off the skin of the lion. Seeing this, the jungle lion lost his senses. The donkey fell at the feet of the lion and started pleading and started apologizing to the lion and said, Brother Lion, please forgive me, I have made a mistake. The lion forgave the donkey. The lion told the donkey not to make this mistake in future. The donkey had realized his mistake.

One thought on “बनावट नहीं छुपता हैं हिंदी मनोहर कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *