suvieducation

बुद्धिमान केकड़ा की मनोहर कहानी

एक जंगल था | जंगल में एक तालाब था उस तालाब में बहुत साड़ी मछलिया रहती थी | सभी मछलिया बहुत खुश थी और मजे से एक साथ रहते थे | उसी जंगल में एक बगुला रहता था | बगुला मछली को खाने के लिए तालाब के पास आता रहता था | लेकिन बगुला अब बूढ़ा हो गया था जिसके वजह से वो शिकार नहीं कर पा रहा था | एक बार की बात हैं जंगल में सूखा पर गया जिसके कारण तालाब का पानी सूखने लगा | मछलियाँ परेशान हो गई की अब क्या किया जाए | सभी मछलियाँ सोच रही थी अगर तालाब का पानी सुख जायेगा तो वो कैसे तालाब में अपना जीवन वयतीत करेंगे | तभी वहां पर बगुला आया और उसने सभी मछलियों को बोला की उसने दूसरे जंगल एक बहुत बड़ा तालाब देखा हैं | सभी मछलियाँ खुश हो गई और बगुला से बोला हमे वहां पर ले चलने के लिए |


बगुला ने बोला हम एक – एक करके मछलियों को ले के चलेंगे और उस तालाब में पहुंचाएंगे | सभी मछलियाँ तैयार हो गई | बगुला एक – एक करके मछलियाँ को अपने चोंच में ले के जाने लगा | बगुला ने सोचा इससे अच्छा मौका नहीं मिलेगा उसने एक – एक मछलियाँ को ले के एक पहाड़ पर ले जा के खाने लगा | वापस तालाब के पास आता और एक – एक करके मछलियों को ले के खाने लगा | अब तालाब से सभी मछलियाँ कम होने लगी | अंत में जब सभी मछलियाँ ख़तम हो गई तो केकरा बच गया अब केकरा की बारी थी | केकरा को भी बगुला ले जाने लगा जब बगुला पहाड़ के पास जाने लगा तो केकरा ने दूर से देख लिया की पहाड़ पर बहुत साडी मछलियों का अवशेष देखा |

केकरा समझ गया की बगुला सभी मछलियों को खा गया | तभी केकरा ने बगुला का गर्दन को पकड़ लिया और उसे काटने लगा बगुला चिल्लाने लगा ये क्या कर रहे हो केकरा ने बोला तुम ने सभी मछलियों को तो खा गए और मुझे भी खाने के लिए ले जा रहे हो | बगुला समझ गया की केकरा को पता चल गया हैं | बगुला केकरा से माफ़ी मांगने लगा की मुझे छोर दो लेकिन केकरा ने बगुला की एक बात नहीं सुनी और उसने बगुला का गर्दन को दबा दिया |

The fascinating story of the wise crab

There was a forest. There was a pond in the forest. Many fish lived in that pond. All the fish were very happy and lived together happily. A heron lived in the same forest. The heron used to come near the pond to eat the fish. But the heron had now become old due to which he was not able to hunt. Once upon a time, there was a drought in the forest due to which the water in the pond started drying up. The fishes got worried as to what to do now. All the fishes were thinking that if the water in the pond dries up then how will they spend their lives in the pond. Then the heron came there and told all the fishes that he had seen a very big pond in another forest. All the fishes became happy and asked the heron to take us there.

The heron said, we will take the fishes one by one and send them to that pond. All the fishes are ready. The heron started carrying the fishes one by one in its beak. The heron thought that he would not get a better opportunity than this, so he took each fish to a mountain and started eating it. He came back near the pond and started eating the fishes one by one. Now all the fish in the pond started decreasing. In the end, when all the fish were gone, the crab was saved. Now it was the crab’s turn. The heron also started carrying carb. When the heron started going near the mountain, Carb looked from a distance and saw the remains of many dead fishes on the mountain.

Carb understood that the heron had eaten all the fish. Then carb caught hold of the neck of the heron and started biting it. The heron started shouting what are you doing. Carb said, you have eaten all the fishes and are taking me to eat too. The heron understood that Carb had come to know. The heron started apologizing to Carb to spare me but the heron did not listen to a single word of the heron and he pressed the heron’s neck.




One thought on “बुद्धिमान केकड़ा की मनोहर कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *