suvieducation

हिंदी मनोहर और शिक्षाप्रद किसान और डाकू की कहानी

एक किसान था | किसान अपने परिवार के साथ रहता था | किसान बहुत मेहनती था | किसान दिन रात अपने खेत में मेहनत करता था | अपने परिवार का भरण पोषण करता था | सबकुछ अच्छा चल रहा था | एक दिन अचानक गांव में बाढ़ आ गया और बाढ़ के कारन किसान का पूरा खेत का फसल ख़राब हो गया | किसान बहुत दुखी हो गया और सोचने लगा की अब कैसे अपने परिवार का भरण पोषण करेगा |


किसान घर से निकल कर जंगल में चला गया और जंगल में बैठ के सोच रहा था की कैसे घर के लोगो का पालन पोषण कैसे करेंगे | किसान सोच ही रहा था की तभी उसका नजर एक काजग के टुकड़े पर पड़ा उसने वो टुकड़ा उठा के देखने लगा | उस कागज के टुकड़े पर एक मानचित्र बना हुआ था | वो किसी खजाने का नक्सा बना हुआ था | उसने उस मानचित्र को देख के सोचने लगा की ये मानचित्र कहाँ का हैं | उसने उस मानचित्र को देखते हुए वो उस दिशा में बढ़ने लगा | वो मानचित्र के दिशा में गया तो उसने एक गुफा देखा वो गुफा के अंदर गया वहां उसने जो देखा उसे देख के उसके आँखे खुली की खुली रह गई | वहां पर ढेर सारा सोना जेवर रखा हुआ था |

उसने सोचा अगर वो ये सारा जेवर ले लेगा तो उसका गरीबी दूर हो जायेगा | वो जेवर उठा के वहां से जाने लगा तभी वहां पर डाकू आ गया और उसने किसान को पकड़ लिया | किसान बहुत गिडगिराने लगा और उसने डाकू से बोला मै बहुत गरीब हूँ मेरे पास खाने को कुछ नहीं हैं | मेरा फसल बाढ़ के कारन बर्बाद हो गया | ये सब सुनकर डाकू को बहुत दया आ गया उसने किसान को बहुत सारा जेवर दे के विदा कर दिया | किसान बहुत खुश हो गया और डाकू को बहुत धन्यवाद दिया |

Hindi story of a farmer and a robber, interesting and instructive

There was a farmer. The farmer lived with his family. The farmer was very hardworking. The farmer used to work hard day and night in his field. Used to feed his family. Everything was going well. One day there was a sudden flood in the village and due to the flood the crop of the farmer’s entire field got spoiled. The farmer became very sad and started thinking that how will he take care of his family now.

The farmer left the house and went to the forest and sitting in the forest was thinking how he would take care of the people of the house. The farmer was thinking that only then his eyes fell on a piece of paper, he picked up that piece and started looking at it. A map was made on that piece of paper. It was a map of some treasure. Seeing that map, he started thinking that where is this map from. Looking at that map, he started moving in that direction. When he went in the direction of the map, he saw a cave, he went inside the cave and seeing what he saw, his eyes widened. A lot of gold jewelery was kept there.

He thought that if he takes all this jewelry then his poverty will go away. He picked up the jewelry and started leaving from there, only then the robber came there and caught the farmer. The farmer started pleading a lot and he said to the robber, I am very poor, I have nothing to eat. My crop got ruined due to flood. Hearing all this, the dacoit felt pity and sent the farmer away after giving him a lot of jewellery. The farmer became very happy and thanked the robber a lot.

3 thoughts on “हिंदी मनोहर और शिक्षाप्रद किसान और डाकू की कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *